Monday, August 25, 2008

इंद्रजाल कॉमिक्स अंक २५२ - इस बार पढिये एक शानदार वेताल कथा इंद्रजाल के खजाने से

पिछली कॉमिक पोस्ट पर आपकी सराहनापूर्ण टिप्पणियों से उत्साहित होकर एक और वेताल कथा प्रस्तुत कर रहा हूँ. आशा है आप सभी को पसंद आयेगी और कुछ पुरानी यादों के तार झनझनाने में मददगार होगी.

सन १९७६ में इंद्रजाल कॉमिक्स में पहली बार प्रकाशित इस कहानी में एक रोचक वेताल कथा के सभी गुण मौजूद हैं. रहस्य, रोमांच और थोड़ा सा रोमांस भी. ये कहानी डायना से वेताल की शादी से पहले की है. मैंने इसे ६ या ७ वर्ष की उम्र में पढ़ा था और तभी से ये मेरी पसंदीदा वेताल कथाओं में से है. साय बैरी की ड्राइंग्स तो बस कमाल की हैं.

कॉमिक्स ३२ वर्ष पुरानी है इसलिए प्रारम्भ के दो तीन पृष्ठ बहुत अच्छी क्वालिटी के नहीं हैं, इसके लिए माफी, लेकिन बाकी पृष्ठों के साथ कोई समस्या नहीं है. इस कॉमिक को मैंने कोई वर्ष भर पहले स्केन किया था जब स्केनिंग में हाथ सधा नहीं था, इसलिए पेज रेसोल्यूशन कुछ कम है. बाकी आने वाली कॉमिक्स और भी बड़े आकार में दिखेंगी.

इंद्रजाल कॉमिक्स का एक और अतिरिक्त आकर्षण हुआ करता था बाद के तीन-चार पेज में आने वाले अन्य स्तम्भ जैसे रिप्ले का मानो ना मानो या गुणाकर और चिम्पू जैसी कहानियाँ. इस अंक में इनमें से भी कुछ आपको देखने को मिलेंगी.

और ज्यादा कुछ नहीं कहूँगा. बस ये कॉमिक पढिये और हो सके तो अपनी राय से अवगत कराइए. कोई अन्य सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है.

इंद्रजाल कॉमिक्स अंक २५२


Cover


Page 1


Page 2


Page 3


Page 4


Page 5


Page 6


Page 7


Page 8


Page 9


Page 10


Page 11


Page 12


Page 13


Page 14


Page 15


Page 16


Page 17


Page 18


Page 19


Page 20


Page 21


Page 22


Page 23


Page 24


Page 25


Page 26


Page 27


Page 28


Front-In


Back-In


Back

.

15 टिप्पणियां:

Tarun said...

अरे वाह, यहाँ तो इन्द्रजाल का खजाना छुपा है, ये मेरी भी पसंदीदा कामिक्स में से थी और लगभग सभी पढ़ी हैं लेकिन अब दोबारा पढ़ने को मिल गयी।

संजय बेंगाणी said...

धन्यवाद जी.

Gyandutt Pandey said...

तपाक से डाउनलोड किया। अब अगली पोस्ट का इन्तजार।

Comic World said...

Indeed a very good story to read in,its next part was published in issue # 269 "Daitya Se Samna".
I think you are missing its front and back cover pages as the front cover is taken from CW's Hindi Cover post.If you wish then i can send scans of both side of front and back cover pages,so that they can be made available for all visitors here.

वेताल शिखर said...

@तरुण जी: आपके रूप में एक और इंद्रजाल प्रेमी को पाकर प्रसन्नता हुई. आपका स्वागत है.

वेताल शिखर said...

@संजय जी: स्वागत है.

वेताल शिखर said...

@ज्ञानदत्त जी: खुशी हुई ये जानकर. जल्द ही एक और इंद्रजाल आ रही है.

वेताल शिखर said...

@CW:Nice info. Send the pages ASAP.

अनुराग said...

ढेरो ढेरो...........................शुक्रिया........

वेताल शिखर said...

@anurag ji:Thanks. You are welcome.

Anonymous said...

ati sunder.... shukriya

saif

वेताल शिखर said...

@Saif: Thank you Saif. Nice to see you here.

Suresh Varma said...

प्रिय वेताल शिखर जी,

पूरा बचपन ही इन्द्रजाल की बदौलत बीता. हालांकि अभी भी फैंटम की आयातित कॉमिक्स उप्लब्ध है लेकिन उसमे वो मज़ा कहां?

वेताल शिखर said...

@ सुरेश वर्मा जी: आपका स्वागत है. बिल्कुल सही कहा आपने. १९९९ में ली फाक के ना रहने के बाद से फैंटम की कहानियो के स्तर में गिरावट आयी है. नए लेखक वैसी शानदार कहानियाँ नहीं लिख पा रहे.

इंद्रजाल की तो बात ही निराली थी. उस वक्त दुनिया भर में जितनी जगह भी फैंटम कॉमिक्स के रूप में प्रकाशित होता था उनमें इंद्रजाल कॉमिक्स का स्तर किसी भी तरह किसी और कॉमिक्स से कम नहीं था.

Zeashan Zaidi said...

Bahut Khoob. Padhkar bachpan ke din yaad aa gae hain.